आप धीरे से मरना शुरू करते हैं || Aap dheere se marana shuroo karate hai - Hindi Writings

hindi kavita, poem in hindi, hindi kavya, kavya shala




आप धीरे से मरना शुरू करते हैं ||
अगर आप जीवन में यात्रा नहीं करते हैं
अगर आप पढ़ नहीं सकते हैं
अगर आप जीवन की आवाज़ नहीं सुनते हैं
अगर आप अपने आप की सराहना नहीं करते हैं
आप धीरे से मरना शुरू करते हैं ||

जब आप अपने आत्मसम्मान को मारते हैं
जब आप दूसरों को आपकी सहायता करने नहीं देते हैं
जब आप अपनी आदतों का दास बन जाते हैं
आप धीरे से मरना शुरू करते हैं ||

यदि आप एक ही रास्ते पर हर रोज चलना शुरू करते हैं
यदि आप अपनी दिनचर्या नहीं बदलते हैं
यदि आप अलग-अलग रंग नहीं पहनते हैं
यदि आप उन लोगों से बात नहीं करते जिन्हें आप नहीं जानते।
आप धीरे से मरना शुरू करते हैं ||

यदि आप जुनून महसूस करने से बचते हैं
यदि आप जोखिम नहीं उठाते हैं,
जो अनिश्चित के लिए सुरक्षित है
यदि आप सपने नहीं देखते हैं
यदि आप अपने आप को अनुमति नहीं देते हैं

आप धीरे से मरना शुरू करते हैं ||

निवेदन:- अगर आपको यह कविता "आप धीरे से मरना शुरू  करते हैं' अच्छी लगी हो तो शेयर करें और अपने अनुभव हमें Comment करके जरूर बताएं। आपका सुझाव अमूल्य है।


यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे  E-mail करें. हमारी Id है: hindiwritings@gmail.com.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!


यह भी पढ़ें-
मधुशाला - हरिवंश राय बच्चन

No comments

लड़कियां महफूज क्यूँ नहीं - शम्भूनाथ | HindiWritings.com

लड़कियां महफूज क्यूँ नहीं - शम्भूनाथ | HindiWritings.com घर घर में जहाँ पूजा हो ||  पूजी जाती हो मुर्तिया ||   उस देश में मु...

Powered by Blogger.