लड़कियां महफूज क्यूँ नहीं – शम्भूनाथ | HindiWritings.com

Poem on girls, poem for rape victims, rape victim girls poem, poem for girls, poem by Shambhu Nath, shambhu Nath poem on rape victim girls
 

लड़कियां महफूज क्यूँ नहीं – शम्भूनाथ | HindiWritings.com


घर घर में जहाँ पूजा हो || 

पूजी जाती हो मुर्तिया || 
उस देश में मुझे बताओ  || 
क्यूँ महफूज नहीं है लड़किया || 
 
कोमल खली खिलने नहीं पायी || 
क्यूँ कलियों को मसल दिये || 
कोई सुरक्षित कहा है नारी || 
होते रहते है जुल्म बड़े || 
कब तक मौन रहेगा भारत || 
सुनता रहेगा सिसकिया || 
उस देश में मुझे बताओ  || 
क्यूँ महफूज नहीं है लड़किया ||  
 
कोई मजबूरी को भाप लेता है || 
कोई धोखे से करता है || 
हर जगह सुनायी क्यूँ देता है || 
मानव ऐसा क्यूँ करता है || 
रहम करो न ऐसे लोगो पर || 
तोड़ दो उनकी सीढिया || 
उस देश में मुझे बताओ  || 
क्यूँ महफूज नहीं है लड़किया || 
 
कानून लचीला होने के कारण || 
फायदा लोग उठाते है || 
गलत काम करते रहते है || 
वे पीछे नहीं पछताते है || 
सख्त करो कानून को अपने || 
बंद करो अपराध झलकियां || 
उस देश में मुझे बताओ  || 
क्यूँ महफूज नहीं है लड़किया || 
यह भी पढ़ें:-
 
 
निवेदन:- अगर आपको यह कविता “लड़कियां महफूज क्यूँ नहीं” अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करें और अपने अनुभव हमें Comment करके जरूर बताएं। आपका सुझाव अमूल्य है।



यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे  E-mail करें. हमारी Id है: hindiwritings@gmail.com.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *