नज़्म- उलझन

हम उनसे उलझे हैं ऐसे, जैसे आपस में उलझी हुई हो लट कई,
ख्वाहिश यूँ है के बन के कंगा, उनकी ज़ुल्फ़ों से गुज़र जाऊं,
खुद को चुभु मगर, उनको सुलझा जाऊं,
गिरती है जब ज़ुल्फें उनके माथे पर आके,
कुछ आँखों में चुभती है, कुछ कानों में घुसती हैं,
कुछ तो लबो से उनके टकराके इतराती हैं बड़ा,
खीज के जब उन ज़ुल्फ़ों को तुम समेटती हो, कमाल लगती हो ।।
                  ✍ प्रियांश वर्मा


निवेदन:- अगर आपको यह “नज़्म” अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करें और अपने अनुभव हमें Comment करके जरूर बताएं। आपका सुझाव अमूल्य है।

यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे  E-mail करें. हमारी Id है: hindiwritings@gmail.com.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *