पुलवामा हमले पर- Patriotism Poem In Hindi

14 फरवरी 2019 को कश्मीर के Pulwama Attack में CRPF के 46 जवान शहीद हो गए। एक हमले से आहत होकर दीपक शर्मा ने एक Patriotism Poem In Hindi लिखते हुए अपनी भावनाओं को प्रकट किया है।

दिल्ली को एक सिंह मिला जब, हम सब तब हर्षित थे।
निर्भीकता के उसके चर्चे, घर घर में चर्चित थे।।

नमो नमो के नारे गूँज रहे थे पूरे हिन्दुस्तान में।
तिरंगे पे आँच न आयेगी कहते थे शान में।।

मैं देश नहीं बिकने दूँगा ये सौगन्ध तुम्हारी थी।
सैना को नही झुकने दूँगा ये सौगन्ध तुम्हारी थी।।

अब वक्त आ गया है अपनी सौगन्ध का मान रखो।
काश्मीर में केशरी-सी अपनी तुम पहचान रखो।।

ममता की आँखों से छलक रहे आँसू पूछ रहे।
और बहन की मेंहदी, पायल, झुमके पूछ रहे।।

नन्हें नन्हे नौनिहालों की लँगोटियाँ पूछ रहीं।
हमारे घरों की छिनी रोटियाँ पूछ रहीं।।

दिल्ली तू बतला दें कब तक हम अपना लहू बहाएंगे।
न जाने कब इजराइल वाली हम भाषा अपनाएंगे।।

अपनी हिंसा न करने की नीति को लाचारी समझा है।
पड़ोसी ने अपने संयम को कायरता, कमजोरी समझा है।।

उम्मीद करते हैं तुम सत्ता के मद में नहीं बैठोगे।
बलिदानी परिपाटी में कायरता के बीज नहीं बोओगे।
आज भारत का बच्चा बच्चा बोल रहा है।
हिन्दू और मुस्लिम दोनों का खून खौल रहा है।।

सब बोल रहे अब न तुम इनको माफ करो।
सबसे पहले घर के गद्दारों को साफ करो।।

जो बोल रहे भड़कीले भाषण और जहरीली बोली।
उनकी छाती में उतरने दो सिर्फ सेना की गोली।।

अब हर किसी की आँखों में हैं, डोरे लाल- लाल।
खुली छूट दे दो सेना को, वीर नाचेंगे बनके काल।।

ये वहसी हैं दहशतगर्द हैं इनको न अब समझाओ तुम।
इन बर्बर हत्यारों को इनकी भाषा में सबक सिखलाओ तुम।।

चीरकर सीना बैरियों का माँ चंडी की प्यास बुझाओ तुम।
केसर की घाटी में फिर अमन के फूल खिलाओ तुम ।।

हम तुमको अपना रणकौशल दिखलायेंगे।
ब्यालीस तुमने मारे है हम ब्यालीस लाख मारेंगे।।

राणा, राजे के वंशज हम, हिन्दुस्तान की तासीर बता देंगे।
विश्वास रखो, इस पाकिस्तान को कब्रिस्तान बना देंगे।।

इससे समझ गया तो ठीक, वरना भीषण निदान करेंगे हम।
दिल्ली अब न ख़ामोश रहेगी , परमाणु संधान करेंगे हम।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *