अब तो बाहें खुलवा दो- Patriotic Poem

पानी सर से निकल चुका है…

अब तो बाहें खुलवा दो…

सेना को सब अधिकार दे तुम कल ही चढ़ाई करवा दो.. अब तो……. 

*जैश* के जोश को तुम अब ठंडा करवा दो..अब तो…… 

कल भोर होते ही तुम युद्ध का डंका बजवा दो…

कुरुक्षेत्र में महाभारत का दृश्य सभी को दिखला दो.. 

मोदी जी अब वैलंटाइंस सारे जग को याद रह जाएगा..

जब कल एक नापाक देश इस दुनिया से मिट जाएगा..

क्यूँ भारत बार बार इन हमलों को सहता है…

अरे क्यूँ रूस अमरीका से इस चीज़ में पीछे रहता है..

अब मत पढ़ाओ अहिंसा का पाठ…

राफेल की उड़ान तुम भरवा दो..

जिनके गरम खून के आगे सब अंग्रेज़ी तोते दहले थे… 

40 जानों के बदले उनकी 40 पीढ़ी याद दिला दो तुम.. 

सबसे पहले हुर्रियत पर स्ट्राइक करवा दो तुम.. 

निंदा नहीं कार्यवाही चाहिए.. पाक में तिरंगा फहरवा दो.. अब तो…… 

कब तक उस माँ को तसल्ली देते रहोगे जिनके वीर देश पर मिटते हैं…

कभी उरी..कभी पठानकोट और पुलवामा में जलते हैं..

अरे सीख सीखलो इस्राइल से.. जहाँ बच्चा बच्चा फौजी है.. 

मातृभूमि जिनका मंदिर और देश-धर्म ही रोटी रोजी है.. 

तुम भी अब स्कूलों में हथियार चलाना सिख ला दो.. 

अब तो बाहें खुलवा दो.. अब तो बाहें खुलवा दो

यह भी पढ़ें

Ek पैगाम; china के नामh

दिन ख़ून के हमारे- जलियाँवाला बाग़

यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे  E-mail करें. हमारी Id है: hindiwritings@gmail.com.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!

2 thoughts on “अब तो बाहें खुलवा दो- Patriotic Poem

  • February 16, 2019 at 3:20 pm
    Permalink

    कविता पढ़कर दिल प्रतिपादित हुआ। आशा है देशभक्ति पूर्ण आपके विचार और भावनाएं दूसरों में भी देश के प्रति चिरस्थायी प्रेम की भावना को उजागर करें।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *